HomeIndia NewsBhopal also has unique sculpture like Khajuraho, 24 temples found in archaeological...

Bhopal also has unique sculpture like Khajuraho, 24 temples found in archaeological search

highlights

Ashapuri local museum has about 273 idols recovered from the Bhoothnath site.
In the Bhootnath complex, the sculpture and architecture of Gyaraspur Temple, Khajuraho Temple, Ujjain, Udayaditya Temple are found.

भोपाल. छोटा सा गांव. कच्चे-पुराने से 50-60 घरों वाला. एक ओर से पहाडिय़ों और जंगल से घिरा. गांव में प्रवेश करते ही आपको हर जगह दिखेंगी नयाब नक्काशी और बेजोड़ शिल्पकला वाली मूर्तियां. 
कहा तो यह भी जाता है कि इस गांव के आसपास जहां भी खुदाई की जाए, वहीं से पत्थरों पर उकेरी गईं सुंदर सी कलाकृतियां निकल जाती हैं. खुदाई में यहां एक साथ मिले हैं 24 मंदिरों के अवशेष. खास है कई एकड़ जमीन में फैला हुआ भूतनाथ मंदिर. मान्यता है कि एक बार जब आसपास के क्षेत्र में अकाल पड़ा, तो लोगों ने इस भूतनाथ मंदिर में आकर हवन किया. मंत्र उच्चारण और हवन होते ही खूब बारिश हुई. तब से यह आस्था का भी केंद्र है. हम बात कर रहे हैं भोजपुर से 7 और भोपाल से करीब 20 किलो मीटर की दूरी पर स्थित गांव आशापुरी की है. रायसेन जिले की सीमा में आने वाले इस गांव में मध्यकालीन वास्तुकला और शिल्पकला का भंडार है. रायसेन जिले के पास स्थित यह गांव अपने ही ध्वस्त मंदिरों की कहानियों में ध्वस्त हो चुका है, लोक इन मंदिरों की होने की वजह ही भूल चुके हैं. यहां के बिखरे हुए अवशेष अपनी कहानी खुद कह रहे हैं.
यह भी पढ़ें: Bharat Jodo Yatra : भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने एमपी पहुंचीं प्रियंका, राहुल बोले-बुरहानपुर से प्रेम का संदेश कश्मीर ले जाएंगे, Video

लाल बलुआ पत्थर से निर्मित हैं मंदिर
भूतनाथ मन्दिर समूह पर गांव के स्थानीय लोगो की कई मान्यताएं प्रचलित है, की एक वक्त यहां अकाल पड़ता था तब भूतनाथ परिसर पर जाकर एक हवन किया गया था ताकि यहां बारिश का आगमन हो जिस वजह से यह परिसर गांव वासियों के लिए अमूल्य है. आशापुरी गांव में विभिन्न जगहों पर कई मंदिर स्थित है जैसे भूतनाथ ,आशापुरी देवी ,बिलौटा एवं सतमसिया. जिनमें से भूतनाथ मंदिर कई एकड़ की भूमि में फैला हुआ है. जहां पर सरकार द्वारा 24 मंदिरों के अवशेष प्राप्त हुए हैं. यह मंदिर मध्यकालीन शिल्प कला के विभिन्न शैली को प्रस्तुत करते है जैसे कि नागर शैली, भूमिजा शैली, शिखर शैली इत्यादि. यह मंदिर लाल बलुआ पत्थर से निर्मित किए गए थे. इन मंदिरों के अवशेषों से यह समझ में आता है कि यह केवल निर्मित मंदिर नहीं बल्कि मंदिरों के निर्माण का केंद्र रहा होगा या कहें एक प्रायोगिक स्थल की तरह उपयोग में लाया जाता होगा जिसके कारण यहां पर हमें विभिन्न शैलियों के अवशेष प्राप्त हुए. मध्य भारत में इन शैलियों के कई विशाल स्वरूप मंदिर स्थित है़ं जैसे ग्यारसपुर मंदिर, खजुराहो मंदिर, उज्जैन, उदयादित्य मंदिर आदि. भूतनाथ परिसर में हमें इन सारे मंदिरों की बनावट ,शिल्प कला एवं वास्तुकला एक ही जगह में प्राप्त होती है.
यह भी पढ़ें: Bharat Jodo Yatra : राहुल प्रियंका नर्मदा की करेंगे पूजा, महाकाल और ओंकारेश्वर के दर्शन-पूजन का कार्यक्रम
गांववासियों की असुरों से रक्षा की थी आशा देवी मां ने
ऐतिहासिक धरोहरों के मामले में रायसेन अत्यंत ही समृद्ध है जिसका एक अद्भुत उदाहरण आशापुरी है. यहभोजपुर से 7 किलोमीटर की दूरी पर है और भीमबेटका से इसकी दूरी 20 किलो मीटर है. यह गांव अपने सांस्कृतिक विरासत के लिए प्रसिद्ध है. आशापुरी गांव का नाम आशा देवी मां के मंदिर के ऊपर रखा गया जिन्होंने गांव वासियों की रक्षा एक असुर से की थी. इसके बाद कई वंशज आए और गए लेकिन मध्यकालीन वंशजों परमार एवं परिहार राजाओं द्वारा निर्मित विभिन्न प्रकार की वास्तुकला और शिल्पकला के मंदिर जो की कई सदियों से यहां मौजूद है. यह मंदिर भारतीय संस्कृति का वैभव बढ़ाती हैै. यहां पर हिंदू मंदिरों के साथ-साथ जैन धर्म के तीर्थ स्थलों भी मौजूद है. आशापुरी स्थानीय संग्रहालय में लगभग 273 प्रतिमाएं भूतनाथ साइट से प्राप्त हुई है, कई प्रतिमाएं बिडला संग्रहालय एवं राज्य संग्रहालय में संग्रहित एवं प्रदर्शित की जा चुकी हैं.

from your city (Bhopal)

Madhya Pradesh


  • Healthy Food: Not Jalebi, delicious healthy breakfast is available at ‘Jalebi Bhaiya’s shop’, know the specialty and location

  • Big accident averted in Bhopal, fire broke out in auto which arrived at CNG pump to fill gas, watch video

    Big accident averted in Bhopal, fire broke out in auto which arrived at CNG pump to fill gas, watch video

  • Jabalpur News: Court's big order on police constable recruitment process, notice issued to MP government

    Jabalpur News: Court’s big order on police constable recruitment process, notice issued to MP government

  • Vermilion by demand, wearing mangalsutra around the neck, Nazneen said – accepted Sanatan Dharma willingly;  very happy married

    Vermilion by demand, wearing mangalsutra around the neck, Nazneen said – accepted Sanatan Dharma willingly; very happy married

  • 3 coaches of Barauni Express derailed at Gwalior station, big accident averted.  Latest News |  News 18

    3 coaches of Barauni Express derailed at Gwalior station, big accident averted. Latest News | News 18

  • Muslim girl took seven rounds with Hindu youth, adopted Sanatan Dharma;  The name also changed;  Read Unique Love Story

    Muslim girl took seven rounds with Hindu youth, adopted Sanatan Dharma; The name also changed; Read Unique Love Story

  • OMG : Truth of education in Madhya Pradesh : 18 thousand government schools rely on only one teacher, 12 thousand do not want to teach

    OMG : Truth of education in Madhya Pradesh : 18 thousand government schools rely on only one teacher, 12 thousand do not want to teach

  • Big accident averted at Gwalior station, 3 coaches of Barauni Express derailed.  Latest News |  News 18

    Big accident averted at Gwalior station, 3 coaches of Barauni Express derailed. Latest News | News 18

  • MP News: State's longest road tunnel ready for passengers, but now why are helipads being built in Rewa?

    MP News: State’s longest road tunnel ready for passengers, but now why are helipads being built in Rewa?

  • Bharat Jodo Yatra: Controversy sparked by Rahul Gandhi's new statement on RSS, BJP objected

    Bharat Jodo Yatra: Controversy sparked by Rahul Gandhi’s new statement on RSS, BJP objected

Madhya Pradesh

Tags: Archaeological Survey of India, Bhojpur

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments